ताना बाना

मन की उधेड़बुन से उभरे विचारों को जब शब्द मिले

तो कुछ सिलवटें खुल गईं और कविता में ढल गईं

और जब शब्दों से भी मन भटका

तो रेखाएं उभरीं और

रेखांकन में ढल गईं...

इन्हीं दोनों की जुगलबन्दी से बना है ये

ताना- बाना

यहां मैं और मेरा समय

साथ-साथ बहते हैं

शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

पराजित


तुमने ये कहा
तुमने वो कहा
तुमने ऐसे क्यों कहा
तुमने वैसे क्यों कहा
तुम तो हो ही ऐसी
तुम तो हो ही वैसी
तुमने दिल दुखाया मेरा
अब मेरे दिल का क्या
मेरी फ़ीलिंग्स का क्या
तुमको ऐसे नहीं कहना था
तुमको वैसे नहीं कहना था
टूट गया रिश्ता
टूट गया दिल
..........
हैरान
परेशान
खड़ी हूँ अपने पराजित
'निन्यानवे ‘के साथ
कटघरे में
सिर झुकाए
और ...
मेरा 'एक’ गर्वित
गौरवान्वित
बड़ी चालाकी से
अर्थों का उलट- फेर कर
खड़ा है मैडल लिए जीत का
मुस्कुराता हुआ
उस पार !!

#निन्यानवेकाफेर

5 टिप्‍पणियां:

  1. निन्यानवे के पास एक प्रतिशत की ही उम्मीद होती है, देर से सही, उम्मीद पूरी होती है । हाँ, कई बार निन्तानवे पर ज़िन्दगी ठहर जाती है ... अब इसे फेर कहें या प्रयोजन, लेकिन एक के पास निन्यानवे प्रतिशत की दूरी होती है, जीत स्वाभाविक होती ही नहीं और ना ही मन को सुकून मिलता है ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रश्मिप्रभा जी आपकी सकारात्मक सोच बहुत प्रेरणादायी है ...शुक्रिया!

      हटाएं

ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम) रश्मि प्रभा

ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम)    ताना-बाना उषा किरण  शिवना प्रकाशन  कितना कुछ हम मुट्ठी में भरकर...