ताना बाना

मन की उधेड़बुन से उभरे विचारों को जब शब्द मिले

तो कुछ सिलवटें खुल गईं और कविता में ढल गईं

और जब शब्दों से भी मन भटका

तो रेखाएं उभरीं और

रेखांकन में ढल गईं...

इन्हीं दोनों की जुगलबन्दी से बना है ये

ताना- बाना

यहां मैं और मेरा समय

साथ-साथ बहते हैं

मन का कोना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मन का कोना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 24 मई 2020

नर में नारायण





"मैं सोया और स्वप्न देखा
कि जीवन आनन्द है
मैं जागा और देखा कि
जीवन सेवा है
मैंने सेवा की
और पाया कि
सेवा आनंद है”
        —रवीन्द्रनाथ टैगोर

चार दिन पहले मालविका का फोन आया तो बताने लगी कि वो जिस एन जी ओ "प्रगति “के साथ काम करती है उस स्कूल में जब टीचर ने ऑनलाइन क्लास लेते समय एक बच्ची को होमवर्क न करने पर डाँटा  तो वो बोली मैडम तीन दिन से खाना नहीं खाया हमसे नहीं पढ़ा जा रहा । दरअसल प्रगति के तीनों ही स्कूलों में बहुत गरीब घरों के बच्चे पढ़ते हैं ।उन टीचर ने मालविका को बताया मालविका ने तुरन्त फोन नं० लेकर उसके फादर से बात की और घर में जितना भी राशन , मैगी के पैकिट, ब्रैड, दूध था सब थैलों में भरा ,आदी ने भी अपने चॉकलेट्स बिस्किट लाकर दिए ।सब खाने पीने का सामान गवीश के साथ ले जाकर उसके पापा को पास के मार्केट में बुला कर दे दिया ।उन्होंने बताया कि वो गाड़ी धोने का काम करते हैं पर आजकल न तो गाड़ी निकलतीं न ही धुलतीं हैं तो लोगों ने पैसे देने बन्द कर दिए,बहुत परेशानी है।मालविका ने बोर्ड के  सभी मेंबर से बात की सबने मिल कर अरेंजमेन्ट किया । कुछ निर्णय लिए गए ...फंड्स का इंतजाम  कर राशन के पैकिट्स बनवाए और सभी बच्चों के घर फोन करके उनके पेरेन्ट्स को स्कूल बुला कर राशन व स्टेशनरी देने की व्यवस्था सुरक्षित तरीके से करवाई। । वो बता रही थी कि राशन देते समय जब मैंने पूछा कि अब गाँव तो नहीं जाओगे तो सभी ने यही कहा कि खाने का इंतजाम तो हो गया पर मकान का किराया कहाँ से लाएंगे ।आपस में सभी बोर्ड मेंबर से सलाह कर फिर सभी के एकाउन्ट में चार- चार हजार रुपये भी डलवाए ।अब तीनों स्कूलों के लगभग 450 बच्चों और उनके परिवारों के चेहरों पर मुस्कान वापिस आ रही है अभी भी निरन्तर राशन बाँटा जा रहा है और बच्चे भी अब मन लगा कर होमवर्क पूरा करते हैं ।मुझे यह सब सुन कर बहुत तसल्ली , संतोष और  खुशी मिली।
               मालविका मुझे बता रही थी कि उस बच्ची के फादर जिस सोसायटी में कारें धोने का काम करते थे वहाँ काफी रिच फ़ैमिलीज रहती हैं जिनका शायद किसी होटल या रेस्टोरेन्ट का लन्च या डिनर का एक बार का या एक जोड़ी जूते का बिल जितना आता होगा उतने में उस बेचारे का पूरा परिवार महिने भर खाना खा सकता है पर इस आपदा काल में उनको यदि बिना काम किए पैसे दे देंगे तो उनको तो ऐसी कोई कमी नहीं आने वाली है पर ....दरअसल बात नीयत की है ।
आपकी इस लालच की वजह से उनका पूरा परिवार भूखा सोएगा ये क्यों नहीं दिखाई देता । आपकी तो ऐयाशी कुछ कम हो सकती है पर वो बेचारे तो भूखों मर जाएंगे।पुताई वाले, कबाड़ी वाले,रिक्शा ,ऑटो वाले, धोबियों,छोटी दुकानों वाले ,घरों में काम करने वाली बाइयों इन सबका क्या हाल होगा आप सोच कर देखिए।हम सबकी मदद नहीं कर सकते पर जो हमारे दायरे में है हम उतना तो कर ही सकते हैं ।
         इस पोस्ट को लिखने का मकसद बस यही है कि मुझे लगता है कि किसी की भी अच्छी बातों और कामों को शेयर जरूर करना चाहिए होसकता है इससे कुछ और लोगों को भी कुछ अच्छा करने की प्रेरणा मिले ।
    मेरी सभी से गुजारिश है दिल बड़ा रखिए अपने सहायकों को पूरा पेमेन्ट करिए हो सके तो कुछ एक्स्ट्रा देकर मदद करिए वर्ना भूखे पेट वो अपने देस-गाँवों को लौटेंगे या यहीं कैसे जिन्दा बचेंगे।हो सकता है वो लौटें ही नहीं तब? कैसी होगी आपकी जिंदगी इन सबके बिना...जरा सोचिए।
आपदा- काल है ,गरीबों के लिए ये समय काल बन कर आया है ।यथासंभव इनकी मदद करिए जहाँ- जहाँ जितनी हो सके ।यकीन मानिए मंदिरों ,तीर्थों , पूजा,अनुष्ठानों से आप जितना पुण्य कमाएंगे उससे दस गुना ज्यादा इस संकट की घड़ी में उनकी मदद करके कमाएंगे, भूखों का पेट भरके कमाएंगे ।नर में ही नारायण को देखिए ।
ये सच है कि कोई भी नेकी की राह आसान नहीं होती ।बहुत रुकावटें आती हैं । जब आप शुभ संकल्प लेते हैं तो कुछ लोग नकारात्मकता भी फैलाते हैं ऐसे वक्त पर ...लेकिन यदि आप उजले मन से नेकी के रास्ते पर आगे बढ़ते हैं तो राहें खुद आसान हो जाती हैं । कभी कहीं पढी पंक्तियाँ कुछ-कुछ याद आ रही हैं...
     "साफ है मन यदि
     राह है सच्चाई की
     तो प्रार्थना के बिना भी
     प्रसन्न होंगे देवता....!!” 🙏

#फोटो_प्रगति_में_राशन_वितरण

मंगलवार, 10 मार्च 2020

जब फागुन रँग झमकते थे



आज हमारी मित्र वन्दना अवस्थी दुबे ने होली के संस्मरण लिखने को कहा है तो याद आती है अपने गाँव औरन्ध (जिला मैनपुरी) की होली जहाँ पूरा गाँव सिर्फ चौहान राजपूतों का ही होने के कारण सभी परस्पर रिश्तों में बँधे थे इसी कारण एकता और सौहार्द्र की मिसाल था हमारा गाँव ।प्राय: होली पर हमें पापा -मम्मी गाँव में ताऊ जी ,ताई जी के पास ले जाते थे बड़े ताऊ जी आर्मी से रिटायर होने के बाद गाँव में ही सैटल हो गए थे  होली पर प्राय: ताऊ जी की तीनों बेटिएं भी बच्चों सहित आ जाती थीं और दोनों दद्दा भी सपरिवार आ जाते ,छोटे रमेश दद्दा भी हॉस्टल से गाँव आ जाते ।हवेलीनुमा हमारा घर सबकी खुशबुओं और कहकहों से चहक-महक उठता ।आहा ! गाँव जाने पर कैसा लाड़ - चाव होता था ।याद है बैलगाड़ी जैसे ही दरवाजे पर रुकती तो हम कूद कर घर की ओर दौ़ड़ते जहाँ दरवाजे पर बड़े ताऊ जी बड़ी- बड़ी मूँछों में मुस्कुराते कितनी ममता से भावुक हो स्वागत करते दोनों बाँहें फैला आगे आकर चिपटा लेते  "आ गई बिट्टो ” ।ताई अम्मा मुट्ठियों में चुम्मियों की गरम नरमी भर देतीं ।दालान पार कर आँगन में आते तो छोटी ताई जी भर परात पानी में बेले के फूल डाल आँगन में अनार के पेड़ के नीचे बैठी होतीं ,हम बच्चों को परात में खड़ा कर ठंडे पानी से पैर धोतीं बाल्टी के पानी से हाथ मुंह धोकर अपने आँचल से पोंछ कर हम लोगों को कलेजे से लगा लेतीं ।ताई जी बहुत कम उम्र में ही विधवा हो गई थीं ...ताऊ जी आर्मी में थे जो युद्ध में शहीद हो गए थे ...वे गाँव में या फिर हमारे साथ कभी -कभी रहने आ जातीं और हम सब पर बहुत लाड़-प्यार लुटातीं पर हम पर उनका विशेष प्यार बरसता था ।आँगन में लगे नीबू का शरबत पीकर हम सरपट भागते मिट्ठू को पुचकारते तो कभी गैया के गले लगते कभी कालू को दालान पे खदेड़ते ...दौड़ कर अनार अमरूद की शाखों पर बंदर से लटकते..हंडिया का गर्म दूध पीकर ,चने-चबेने और हंडिया की खुशबू वाले आम के अचार से पराँठे ,सत्तू खा पी कर बाहर निकल पड़ते उन्मुक्त तितली से ।
रास्ते में बहरी कटी बिट्टा के आँगन में लगे अमरूदों का जायजा लेते...बिट्टा बुआ के घर के सामने से डरते -डरते भाग कर निकल ,अपनी सहेली बृजकिशोर चाचाजी की बेटी ऊषा के पास जा पहुँचते।चाचा-चाची से वहां लाड़ लड़वा कर  उषा के साथ और सहेलियों से मिलने निकल जाते ।रास्ते में बबा,चाचा,ताऊ लोगों को नमस्ते करते जाते...'खुस रहो...अरे जे सन्त की बिटिया हैं का ...’  'अरे ऊसा -ऊसा लड़ पड़ीं धम्म कूँए में गिर पडीं हो हो हो ‘गंठे बबा ’देख जोर से हँसते -हँसते हर बार कहते ।गाँव की चाचिएं, ताइएं ,दादी लोग खूब प्यार करतीं ,आसीसों की झड़ी लगा देतीं और हम आठ-दस सहेलियों की टोली जमा कर सारे गाँव का चक्कर लगा आतीं, साथ ही पक्के रंग , कालिख, पेंट का इंतजाम कर लौटते वापिस घर ।
पापा नहा-धोकर अपने झक्क सफेद लखनवी कुर्ते व मलमल की धोती में सज सिंथौल पाउडर से महकते मोहर बबा की चौपाल पर पहुँचते जहां उनकी मंडली पहले से ही उनके इंतजार में बेचैन प्रतिक्षारत रहती क्योंकि खबर मिल चुकी होती कि ' सन्त’ आ रहे हैं ।पापा अपनी अफसरी भूल पूरी तरह गाँव के रंग में रंग जाते परन्तु उनकी  नफासत उस ग्रामीण परिवेश में कई गुना बढ़ कर महकती...हमें पापा का ये रूप बहुत मजेदार लगता था ।उधर मम्मी भी हल्का घूँघट चदरिया हटा जरा कमर सीधी करतीं कि गाँव की महिलाओं के झुंड बुलौआ करने आ धमकतीं..सबके पैर छूतीं ,ठिठोली करतीं,हाल-चाल पूँछतीं मम्मी का भी ये नया रूप होता ।मम्मी की भी गाँव में बहुत धाक थी वे पहली बहू थीं जो इतने बड़े अफसर की बिटिया और बीबी थीं और हारमोनियम पर गाना गाती थीं। वे भी गाँव में बहुत आदर-प्यार देती थीं सबको ।
             वस्तुत: हम सभी गांव के खुले प्राकृतिक  माहौल में अपनी -अपनी केंचुली उतार उन्मुक्त हो प्रकृति के साथ एकाकार हो आनन्द में सराबोर हो जाते ।हम भाई-बहन पूरी मस्ती से  सरसों, गेहूँ  और चने के खेतों में उन्मुक्त हो भागते-दौड़ते।कभी आम ,जामुन बाग से तोड़ माली काका की डाँट के साथ खाते तो कभी खेतों में घुस कर  कच्ची मीठी मटर खाते ,कभी होरे आँच पर भूने जाते तो कभी खेत से तोड़ कर चूल्हे पर भुट्टे भूनते  । चने के खेत से खट्टा कच्चा ही साग मुट्ठी भर खा जाते और बाद में खट्टी उंगलियाँ भी चाट लेते । कलेवे में कभी मीठा या नमकीन सत्तू और कभी बची रोटी को मट्ठे मे डाल कर या अचार संग खाने  में जो स्वाद आता था वो आज देशी-विदेशी किसी भी खाने में नहीं मिलता । बरोसी से उतरी दूध की हंडिया को खाली होने पर ताई जी हम लोगों को देतीं जिसे हम लोहे की खपचिया  से खुरच कर मजे लेकर जब खाते तो ताई जी हंसतीं 'अरे लड़की देखना तेरी शादी में बारिश होगी ‘ हम कहते 'होने दो हमें क्या ’ और सच में हमारी शादी में खूब बारिश हुई ,भगदड़ मची तो ताई जी ने यही कहा 'वो तो होनी ही थी हंडिया और कढ़ाई कम खुरची हैं इन्होंने’।
गाँव में कई दिनों पहले से होलिका -दहन की तैयारी शुरु हो जाती...पेड़ों की सूखी टहनियों के साथ घरों से चुराए तख़्त , कुर्सी ,मेज,मूढ़ा,चौकी सब भेंट चढ़ जाते ...बस सावधानी हटी और दुर्घटना घटी समझो  और होली पर भेंट चढ़ी चीज वापिस नहीं ली जाती अगला कलेजा मसोस कर रह जाता...सारी रात होली पर पहरा दिया जाता सुबह पौ फटते ही सामूहिक होली जलाने का रिवाज  होता जिसमें पूरे गाँव के मर्द और लड़के गेहूँ की बालियों को भूनते जल देकर परिक्रमा करते और आंच साथ लेकर लौटते जिसे बड़े जतन से घर की औरतें बरोसी में उपलों में सहेजतीं होली के दिन दोपहर में घर वाली होली जलाने के लिए पर कितने ही पहरे लगे हों कोई न कोई उपद्रवी छोकरा आधी रात ही होली में लपट दिखा देता बस सारे गाँव में तहलका मच जाता लोग हाँक लगाते एक दूसरे को ,लोग धोती , पजामे संभालते ,आँख मलते जल भरा लोटा लेकर लप्पड़-सपड़ भागते  जाते और उस अनजान बदमाश को गाली बकते जाते  ..' अरे ददा काऊ नासपीटे ने पजार दी होरी...दौड़ियो रे ...’गाली पूरे साल दी जातीं उस बदमास को।
दूसरे दिन सुबह से ही होली का हुड़दंग शुरु हो जाता ।घर की औरतें पूड़ी-पकवान बनाने में जुट जातीं ।हम बच्चे भाभियों को रँगने को उतावले रसोई के चक्कर काटते तो बेलन दिखा कर मम्मी और ताई जी धमकातीं...'अहाँ कढाई से दूर...’पर हम दाँव लगा कर घसीट ले जाते भाभियों को जिसमें रमेश दद्दा हमारी पूरी मदद करते साजिश रचने में और फिर तो क्या रंग ,क्या पानी ,क्या गोबर ,क्या कीचड़ ...बेचारी भाभियों की वो गत बनती कि बस ! लेकिन बच हम भी नहीं पाते ,भाभियाँ  मिल कर हम में से भी किसी न किसी को घसीट ले जातीं तो बालकों की वानर सेना कूद कर छुड़ा लाती और फिर जमीन पर मिट्टी गोबर के पोते में भाभियों की जम कर पुताई होती....हम सब भी कच्चे गीले फ़र्श पर फिसल कर धम्म- धम्म गिरते ।गाँव में हुड़दंगों की टोली निकलती गली में ढोल लटका गाते बजाते...गाँव में भाँग -दारू -जुए का जोर रहता सो  बहू -बेटियाँ  घर में या अपनी चौपाल पर ही खेलतीं बाहर निकलना मना था ...हाँ क्यों कि सभी की छतें मिली होती थीं तो वहाँ से छुपते -छिपाते सहेलियों और उनकी भाभियों से भी जम कर खेल आते।
दोपहर नहा-धोकर बरोसी से रात को होली से लाई आग निकाल कर उससे आँगन में होली जलाई जाती जिसमें छोटे छोटे उपलों की माला जलाते और घर के सभी सदस्य नए-नकार  कपड़ों की सरसराहट के बीच होली की परिक्रमा करते जाते और गेहूँ की बालियों को हाथ में पकड़ कर भूनते जाते। खाना खाकर फिर शाम होते ही पुरुष लोग एक दूसरे के घर मिलने निकल जाते और हम बच्चे भी निकल पड़ते अपनी - अपनी टोलियों के साथ...सारे गाँव में घूमते जिसके घर जाओ वहाँ बूढ़ी दादी या काकी पान का पत्ता और कसी गोले की गिरी हाथ में रख देतीं ।सबको प्रणाम कर  रात तक थक कर चूर हो लौटते और खाना खाकर लाल -नीले -पीले बेसुध सो जाते रंग छूटने में तो हफ़्ता  भर लग ही जाता था ।
कभी - कभी होली पर हम लोग ननिहाल मुरादाबाद भी जाते थे  पचपेड़े पर नाना जी की लकदक विशाल मुगलई बनावट वाली कोठी जाने का विशेष आकर्षण होती थी जहाँ मामाजी के पाँच बच्चे, मौसी के चार और चार भाई बहन हम सब मिल कर मुहल्ले के बच्चों के साथ खूब होली की मस्ती करते थे।हमें याद है कि कुछ वहीँ के स्थानीय लोग हफ्ते भर तक होली खेलते थे वो हफ्ते भर तक न नहाते थे न ही कपड़े बदलते थे ।ढोल -बाजा गले में लटका कर सबके दरवाजों पर आकर बहुत ही गन्दी गालियाँ गाते थे पर कोई बुरा नहीं मानता था...हमें बहुत बुरा लगता था और हैरानी होती थी कि कोई कुछ बोलता क्यों नहीं उनको ?
आज भी होली पर वे सभी स्मृतियाँ सजीव हो स्मृति-पटल पर फाग खेलती रहती हैं...अब दसियों साल से गाँव और मुरादाबाद नहीं गए...कोई बचा ही कहाँ अब ...जिनसे वो पर्व और उत्सव महकते-दमकते थे लगभग वे सभी तो अनन्त यात्राओं पर निकल चुके हैं ...वो लाड़-चाव, वो डाँट , वो प्यार भरी नसीहतें सब सिर्फ स्मृतियों में ही शेष हैं अब ।
आप सभी स्वस्थ रहें और आनन्द -पूर्वक सपरिवार होली मनाते रहें पर ध्यान रखें किसी का नुकसान न हो भावनाएँ आहत न हों...सद्भावना व प्यार परस्पर बना रहे...आप सभी को होली की बहुत -बहुत शुभकामनाएँ .🙏
फोटो :गूगल से साभार

अन्तर्राष्ट्रीय चाय दिवस

               

चाय दिवस भी होता है ये आज पता चला...हमारे तो सारे ही दिवस चाय दिवस ही हैं ...अम्माँ बताती थीं जब वो छोटी थीं तो मामाजी कहीं से चाय की पत्ती लाए थे अंग्रेज मुफ़्त में बाँट रहे थे ...(कुछ लोगों का कहना था कि देश का सत्यानाश करने को 😅)...खैर तो मामाजी ने पूरे ताम- झाम से थ्री पॉट चाय बनाई ...घड़ी देख कर चाय सिंझाई गई...और सबको बड़ी नफासत से पिलाई जो दो कौड़ी की लगी । वो ही अम्माँ बाद में सुबह -सुबह लगभग केतली भर चाय मामा जी के साथ पी जातीं...मामी जी को तो हर घंटे चहास लगती सारे दिन कटोरी में चाय बनातीं ...न जाने क्यों ? दरअसल चाय किस क्वालिटी की है उससे ज़्यादा असर इस बात का होता है कि वो किसके साथ पी जा रही है ...किसी आत्मीय के साथ गुनगुनी बातों संग गर्म चाय के मिठास भरे सिप अन्दर तक तृप्ति व ऊष्मा का अहसास कराते हैं ।गाँव जाने पर चूल्हे पर औटती चाय मिलती काढ़ा टाइप अदरक और गुड़ वाली , धूँए की खुशबू वाली ...बटलोही भर चाय बना कर चूल्हे से अंगारे  निकाल उस पर रख दी जाती और जो आता उसमें से धधकती चाय गिलास या कुल्हड़ में दी जाती...एक दिन मैंने गुड़ की बना कर देखी ...जरा मजा नहीं आया कसैली सी लगी सारी फेंकनी पड़ी । शायद गाँव वाली उस चाय में वो टेस्ट कोई खास गुड़ का था या गाँव की मिट्टी की ख़ुशबू और अपनों के प्यार की मिठास  का ...।दुनिया जहान की एक से एक उम्दा ,तरह- तरह की चाय पीने पर भी कभी-कभी वो ही गाँव वाली चाय की हुड़क उठती है  तो कुल्हड़ मंगा कर उसमें चाय पीकर संतोष करना पड़ता है...गौरव अवस्थी की ये कविता जैसे मेरे ही मन की बात है ।

गुरुवार, 21 मार्च 2019

जब फागुन रँग झमकते थे







आज हमारी मित्र वन्दना अवस्थी दुबे ने होली के संस्मरण लिखने को कहा है तो याद आती है अपने गाँव औरन्ध (जिला मैनपुरी) की होली जहाँ पूरा गाँव सिर्फ चौहान राजपूतों का ही होने के कारण सभी परस्पर रिश्तों में बँधे थे इसी कारण एकता और सौहार्द्र की मिसाल था हमारा गाँव ।प्राय: होली पर हमें पापा -मम्मी गाँव में ताऊ जी ,ताई जी के पास ले जाते थे बड़े ताऊ जी आर्मी से रिटायर होने के बाद गाँव में ही सैटल हो गए थे  होली पर प्राय: ताऊ जी की तीनों बेटिएं भी बच्चों सहित आ जाती थीं और दोनों दद्दा भी सपरिवार आ जाते ,छोटे रमेश दद्दा भी हॉस्टल से गाँव आ जाते ।हवेलीनुमा हमारा घर सबकी खुशबुओं और कहकहों से चहक-महक उठता ।आहा ! गाँव जाने पर कैसा लाड़ - चाव होता था ।याद है बैलगाड़ी जैसे ही दरवाजे पर रुकती तो हम कूद कर घर की ओर दौ़ड़ते जहाँ दरवाजे पर बड़े ताऊ जी बड़ी- बड़ी मूँछों में मुस्कुराते कितनी ममता से भावुक हो स्वागत करते दोनों बाँहें फैला आगे आकर चिपटा लेते  "आ गई बिट्टो ” ।ताई अम्मा मुट्ठियों में चुम्मियों की गरम नरमी भर देतीं ।दालान पार कर आँगन में आते तो छोटी ताई जी भर परात पानी में बेले के फूल डाल आँगन में अनार के पेड़ के नीचे बैठी होतीं ,हम बच्चों को परात में खड़ा कर ठंडे पानी से पैर धोतीं बाल्टी के पानी से हाथ मुंह धोकर अपने आँचल से पोंछ कर हम लोगों को कलेजे से लगा लेतीं ।ताई जी बहुत कम उम्र में ही विधवा हो गई थीं ...ताऊ जी आर्मी में थे जो युद्ध में शहीद हो गए थे ...वे गाँव में या फिर हमारे साथ कभी -कभी रहने आ जातीं और हम सब पर बहुत लाड़-प्यार लुटातीं पर हम पर उनका विशेष प्यार बरसता था ।आँगन में लगे नीबू का शरबत पीकर हम सरपट भागते मिट्ठू को पुचकारते तो कभी गैया के गले लगते कभी कालू को दालान पे खदेड़ते ...दौड़ कर अनार अमरूद की शाखों पर बंदर से लटकते..हंडिया का गर्म दूध पीकर ,चने-चबेने और हंडिया की खुशबू वाले आम के अचार से पराँठे ,सत्तू खा पी कर बाहर निकल पड़ते उन्मुक्त तितली से ।
रास्ते में बहरी कटी बिट्टा के आँगन में लगे अमरूदों का जायजा लेते...बिट्टा बुआ के घर के सामने से डरते -डरते भाग कर निकल ,अपनी सहेली बृजकिशोर चाचाजी की बेटी ऊषा के पास जा पहुँचते।चाचा-चाची से वहां लाड़ लड़वा कर  उषा के साथ और सहेलियों से मिलने निकल जाते ।रास्ते में बबा,चाचा,ताऊ लोगों को नमस्ते करते जाते...'खुस रहो...अरे जे सन्त की बिटिया हैं का ...’  'अरे ऊसा -ऊसा लड़ पड़ीं धम्म कूँए में गिर पडीं हो हो हो ‘गंठे बबा ’देख जोर से हँसते -हँसते हर बार कहते ।गाँव की चाचिएं, ताइएं ,दादी लोग खूब प्यार करतीं ,आसीसों की झड़ी लगा देतीं और हम आठ-दस सहेलियों की टोली जमा कर सारे गाँव का चक्कर लगा आतीं, साथ ही पक्के रंग , कालिख, पेंट का इंतजाम कर लौटते वापिस घर ।
पापा नहा-धोकर अपने झक्क सफेद लखनवी कुर्ते व मलमल की धोती में सज सिंथौल पाउडर से महकते मोहर बबा की चौपाल पर पहुँचते जहां उनकी मंडली पहले से ही उनके इंतजार में बेचैन प्रतिक्षारत रहती क्योंकि खबर मिल चुकी होती कि ' सन्त’ आ रहे हैं ।पापा अपनी अफसरी भूल पूरी तरह गाँव के रंग में रंग जाते परन्तु उनकी  नफासत उस ग्रामीण परिवेश में कई गुना बढ़ कर महकती...हमें पापा का ये रूप बहुत मजेदार लगता था ।उधर मम्मी भी हल्का घूँघट चदरिया हटा जरा कमर सीधी करतीं कि गाँव की महिलाओं के झुंड बुलौआ करने आ धमकतीं..सबके पैर छूतीं ,ठिठोली करतीं,हाल-चाल पूँछतीं मम्मी का भी ये नया रूप होता ।मम्मी की भी गाँव में बहुत धाक थी वे पहली बहू थीं जो इतने बड़े अफसर की बिटिया और बीबी थीं और हारमोनियम पर गाना गाती थीं। वे भी गाँव में बहुत आदर-प्यार देती थीं सबको ।
             वस्तुत: हम सभी गांव के खुले प्राकृतिक  माहौल में अपनी -अपनी केंचुली उतार उन्मुक्त हो प्रकृति के साथ एकाकार हो आनन्द में सराबोर हो जाते ।हम भाई-बहन पूरी मस्ती से  सरसों, गेहूँ  और चने के खेतों में उन्मुक्त हो भागते-दौड़ते।कभी आम ,जामुन बाग से तोड़ माली काका की डाँट के साथ खाते तो कभी खेतों में घुस कर  कच्ची मीठी मटर खाते ,कभी होरे आँच पर भूने जाते तो कभी खेत से तोड़ कर चूल्हे पर भुट्टे भूनते  । चने के खेत से खट्टा कच्चा ही साग मुट्ठी भर खा जाते और बाद में खट्टी उंगलियाँ भी चाट लेते । कलेवे में कभी मीठा या नमकीन सत्तू और कभी बची रोटी को मट्ठे मे डाल कर या अचार संग खाने  में जो स्वाद आता था वो आज देशी-विदेशी किसी भी खाने में नहीं मिलता । बरोसी से उतरी दूध की हंडिया को खाली होने पर ताई जी हम लोगों को देतीं जिसे हम लोहे की खपचिया  से खुरच कर मजे लेकर जब खाते तो ताई जी हंसतीं 'अरे लड़की देखना तेरी शादी में बारिश होगी ‘ हम कहते 'होने दो हमें क्या ’ और सच में हमारी शादी में खूब बारिश हुई ,भगदड़ मची तो ताई जी ने यही कहा 'वो तो होनी ही थी हंडिया और कढ़ाई कम खुरची हैं इन्होंने’।
गाँव में कई दिनों पहले से होलिका -दहन की तैयारी शुरु हो जाती...पेड़ों की सूखी टहनियों के साथ घरों से चुराए तख़्त , कुर्सी ,मेज,मूढ़ा,चौकी सब भेंट चढ़ जाते ...बस सावधानी हटी और दुर्घटना घटी समझो  और होली पर भेंट चढ़ी चीज वापिस नहीं ली जाती अगला कलेजा मसोस कर रह जाता...सारी रात होली पर पहरा दिया जाता सुबह पौ फटते ही
सामूहिक होली जलाने का रिवाज  होता जिसमें पूरे गाँव के मर्द और लड़के गेहूँ की बालियों को भूनते जल देकर परिक्रमा करते और आंच साथ लेकर लौटते जिसे बड़े जतन से घर की औरतें बरोसी में उपलों में सहेजतीं होली के दिन दोपहर में घर वाली होली जलाने के लिए पर कितने ही पहरे लगे हों कोई न कोई उपद्रवी छोकरा आधी रात ही होली में लपट दिखा देता बस सारे गाँव में तहलका मच जाता लोग हाँक लगाते एक दूसरे को ,लोग धोती , पजामे संभालते ,आँख मलते जल भरा लोटा लेकर लप्पड़-सपड़ भागते  जाते और उस अनजान बदमाश को गाली बकते जाते  ..' अरे ददा काऊ नासपीटे ने पजार दी होरी...दौड़ियो रे ...’गाली पूरे साल दी जातीं उस बदमास को।
दूसरे दिन सुबह से ही होली का हुड़दंग शुरु हो जाता ।घर की औरतें पूड़ी-पकवान बनाने में जुट जातीं ।हम बच्चे भाभियों को रँगने को उतावले रसोई के चक्कर काटते तो बेलन दिखा कर मम्मी और ताई जी धमकातीं...'अहाँ कढाई से दूर...’पर हम दाँव लगा कर घसीट ले जाते भाभियों को जिसमें रमेश दद्दा हमारी पूरी मदद करते साजिश रचने में और फिर तो क्या रंग ,क्या पानी ,क्या गोबर ,क्या कीचड़ ...बेचारी भाभियों की वो गत बनती कि बस ! लेकिन बच हम भी नहीं पाते ,भाभियाँ  मिल कर हम में से भी किसी न किसी को घसीट ले जातीं तो बालकों की वानर सेना कूद कर छुड़ा लाती और फिर जमीन पर मिट्टी गोबर के पोते में भाभियों की जम कर पुताई होती....हम सब भी कच्चे गीले फ़र्श पर फिसल कर धम्म- धम्म गिरते ।गाँव में हुड़दंगों की टोली निकलती गली में ढोल लटका गाते बजाते...गाँव में भाँग -दारू -जुए का जोर रहता सो  बहू -बेटियाँ  घर में या अपनी चौपाल पर ही खेलतीं बाहर निकलना मना था ...हाँ क्यों कि सभी की छतें मिली होती थीं तो वहाँ से छुपते -छिपाते सहेलियों और उनकी भाभियों से भी जम कर खेल आते।
दोपहर नहा-धोकर बरोसी से रात को होली से लाई आग निकाल कर उससे आँगन में होली जलाई जाती जिसमें छोटे छोटे उपलों की माला जलाते और घर के सभी सदस्य नए-नकार  कपड़ों की सरसराहट के बीच होली की परिक्रमा करते जाते और गेहूँ की बालियों को हाथ में पकड़ कर भूनते जाते। खाना खाकर फिर शाम होते ही पुरुष लोग एक दूसरे के घर मिलने निकल जाते और हम बच्चे भी निकल पड़ते अपनी - अपनी टोलियों के साथ...सारे गाँव में घूमते जिसके घर जाओ वहाँ बूढ़ी दादी या काकी पान का पत्ता और कसी गोले की गिरी हाथ में रख देतीं ।सबको प्रणाम कर  रात तक थक कर चूर हो लौटते और खाना खाकर लाल -नीले -पीले बेसुध सो जाते रंग छूटने में तो हफ़्ता  भर लग ही जाता था ।
कभी - कभी होली पर हम लोग ननिहाल मुरादाबाद भी जाते थे  पचपेड़े पर नाना जी की लकदक विशाल मुगलई बनावट वाली कोठी जाने का विशेष आकर्षण होती थी जहाँ मामाजी के पाँच बच्चे, मौसी के चार और चार भाई बहन हम सब मिल कर मुहल्ले के बच्चों के साथ खूब होली की मस्ती करते थे।हमें याद है कि कुछ वहीँ के स्थानीय लोग हफ्ते भर तक होली खेलते थे वो हफ्ते भर तक न नहाते थे न ही कपड़े बदलते थे ।ढोल -बाजा गले में लटका कर सबके दरवाजों पर आकर बहुत ही गन्दी गालियाँ गाते थे पर कोई बुरा नहीं मानता था...हमें बहुत बुरा लगता था और हैरानी होती थी कि कोई कुछ बोलता क्यों नहीं उनको ?
आज भी होली पर वे सभी स्मृतियाँ सजीव हो स्मृति-पटल पर फाग खेलती रहती हैं...अब दसियों साल से गाँव और मुरादाबाद नहीं गए...कोई बचा ही कहाँ अब ...जिनसे वो पर्व और उत्सव महकते-दमकते थे लगभग वे सभी तो अनन्त यात्राओं पर निकल चुके हैं ...वो लाड़-चाव, वो डाँट , वो प्यार भरी नसीहतें सब सिर्फ स्मृतियों में ही शेष हैं अब ।
आप सभी स्वस्थ रहें और आनन्द -पूर्वक सपरिवार होली मनाते रहें पर ध्यान रखें किसी का नुकसान न हो भावनाएँ आहत न हों...सद्भावना व प्यार परस्पर बना रहे...आप सभी को होली की बहुत -बहुत शुभकामनाएँ .🙏

फोटो :गूगल से साभार

सोमवार, 28 जनवरी 2019

अन्तराल

आज सुबह कुछ ठंड ज्यादा है या मुझे ही सन्डे के आलस्यवश ठंड ज्यादा सता रही है...रजाई में पड़े कई कप चाय सुड़क गए...फेसबुक-फेसबुक खेलते रहे साथ में ..किसी को लड़िआया तो किसी से भिड़ लिए यूँ ही...तभी एक फ़्रेंड की कॉल आई
`बहुत डिप्रेशन में हूँ...’
`क्या हुआ ‘हमने पूँछा
`बेटा हाथ से निकल गया’😖
`अरे तो पैर तो हैं न कब्जे में ...पकड़ कर खींच लो‘हमने हँस कर उसे रिलैक्स करने की कोशिश की पर वो गहरे सदमे में थी ।
`यार पीने लगा है ...स्मोक करता है...लड़कियों के साथ रिलेशन में है ‘उसने वजह गिनाईं `सिंगिंल मदर के लिए बहुत मुश्किल होता है बेटे को कंट्रोल करना’
`पढ़ाई में कैसा है’ हमने पूँछा `क्या हर समय नशे में धुत्त रहता है ‘?
`नहीं रे बस महिने में एक दो बार...और मी टू अभियान से डर लगता है कहीं कोई फँसा न दे..कहीं कोई मर्डर न करा दे ...ऑनर किलिंग ...☹️’
` तो वो लड़की उसकी दोस्त है ?’
`पहले कोई और थी अब दूसरी है😢’
`अरे तो नहीं पटी होगी हो गए अलग’
`पर मुझसे मिलवाया तो मैं तो इमोशनली अटैच हो गई उससे न ‘
`तो तुम क्या चाहती थीं उसी से शादी कर लेता ...और यदि नहीं पटरी बैठी तो पहले ही अलग हो गए क्या बुराई है शादी के बाद होते अलग तो..? `शुक्र करो गे नहीं है ‘ हमने कहा
`अरे.....नहीं नहीं😳...वो तो भयानक स्थिति होती मैं भुगत चुकी हूँ...मैं चाहती हूँ उसकी काउंसलिंग कराऊँ पर वो नहीं तैयार होगा ‘।
`बेटे से बात करो उसे डर बताओ अपने ...सुनो उसकी’हमने कहा।
 `नहीं सुनता  रे हँस कर टाल जाता है ‘
`ये इस जैनरेशन का लाइफ स्टाइल है ...थोड़ा तुम समझो थोड़ा उसको समझाओ...दरअसल हमारी और हमारे पेरेन्ट्स की जेनरेशन में ज्यादा फर्क नहीं था मूल्यों और संस्कारों में  ...पर हमारी नेक्स्ट जैनरेशन  के बहुत अलग संस्कार हैं ,मूल्य अलग  हैं उनको समझो जानो उनके ही चश्मे से..’
आधे घंटे बात करने के बाद बोली `लगता है काउन्सलिंग की उसे नहीं मुझे जरूरत है..😃..बैठ कर बात करनी है मुझे बोलो कब आ जाऊँ ‘
`कल आ जाओ ...वाइन शाइन पिएँगे गप्प मारेंगे😉’
`हैं ऐं ऐं ऐं 😳🤭😲’ उसका रिएक्शन था😆
`अरे मजाक कर रही हूँ 😂...चल कल मिलते हैं ‘😊
तो मिल रहे हैं कल  ...आ रही है वो ...सोच रही हूँ क्या पिलाऊँ 😆😂

रविवार, 29 जुलाई 2018

एक थी....



आज पता नहीं क्यों मुझे रेनू याद आ गई सुबह-सुबह...कौन रेनू ?अरे वही १९७० में बुलन्दशहर में जिनकी कोठी में किराएदार थे हम ऊपर वाले फ़्लोर पर ...उनकी ही लड़की रेनू...👧जो अपनी मम्मी की अल्मारी की चाबी ढूंढ कर काजू बादाम जेबों में भर लाती और ऊपर हमारे घर बैठ कर मुट्ठी भर-भर खाकर भाग जाती फिर एक दो दिन बाद नीचे से आंटी का शोर सुनाई देता ”...हे भगवान जाने कौन मरा सारी मेवे भकोस गया.” हम सुनते और मुंह पर उंगली रख चुप रहते 😅 ...और वही रेनू जिसने अपनी मॉं के लल्ला ,छठी क्लास में पढ रहे छोटे भाई से झगड़ा होने पर स्कूल के गेट पर अपनी चार फ्रैंड्स के साथ मिल अच्छे से मरम्मत की थी और वो बेचारा रोता -पीटता बुरे हाल पहुंचा तो घर में भूचाल आ गया था 😆...नहीं जानती कहां है वो अब लेकिन  इतना जानती हूँ वो प्यारी लड़की जहॉं भी होगी मस्त होगी ...💁‍♀️

शुक्रवार, 25 मई 2018

“ जिसका काम उसी को साजे......”


मॉं कहती थीं .."जिसका काम उसी को साजे और करे तो डंडा बाजे”...कितनी सही है ये बात हम अब समझे...पहले शादी ब्याह कराने का काम  हमारे गांव के एक नउआ बबा का था...हमारे लिए भी रिश्ता लेकर गांव से मथुरा पधारे थे कि सौ बीघा जमीन है बढिया खेती है दो दो भैंस हैं 😝 हम एम.ए. में पढ रहे थे मम्मी ने सुना आग बबूला हो गईं पापा ने रफा दफा किया वर्ना मम्मी तो खोपड़ी पर उनके चिमटा बजा ही देतीं ...😂 खैर ...फिर ये जगह ले ली अखबारों और इंटरनेट की ढेरों वेबसाइट ने....ये डॉट कॉम ....वो डॉट कॉम...तो ‘कोई रिश्ता हो तो बताओ ‘..लड़की या लड़के के लिए...ये रिवाज भी खत्म सा ही है ,कोई पचड़े में पड़ता भी नहीं किसी के...और अब तो खुद की पसंद से हो रही हैं शादियां तो बहुत ही राहत है ...दहेज वगैरह का भी झंझट नहीं...खैर...तो हम कह रहे थे कि हम पर भूत चढा किन्हीं परिचित दो बच्चों की शादी कराने का...तो बात बढवाई...भगवान कसम बढवाई...चलाई हमने नहीं थी..बस जितना जानते थे दोनों की तारीफ कर दी कि ...सीधा है, शरीफ है ,मॉं बाप को दहेज का लालच नहीं ...लड़की जॉब करेगी तो कोई आपत्ति नहीं करेंगे वगैरह..वगैरह...लड़का कहीं अड़ रहा था तो उसको भी धकेला कि भाई दस परसेंट निगेटिव के लिए नब्बे परसेंट को क्यों इग्नोर कर रहे हो...खैर जी हो गई  शादी ..हम भी जीम आए दावत ..गदगद बहुत ..कि क्या शानदार जोड़ी जम रही थी..मन से आशीषों की फुहारें छूट रही थीं हमारे...लड़की के पिता बहुत कृतज्ञ थे ..सब कुछ बहुत शानदार , सफलता-पूर्ण ...पर ये क्या एक दिन पिल पड़ी लड़की हम पर आप तो ये कहती थीं., वो कहती थीं...और यहां तो ये है...वो है...हम अवाक काटो तो खून नहीं 😰...हमें तो सारे सुख दिखाई देते थे दोनों के जीवन में ...कोई कमी नहीं....अब लड़के वाले बेचारे नहीं कहते पर जाहिर है उधर भी होंगी ही ढेरों शिकायतें...आसमान से जमीन पर पटके गए ।अब भाई लड़के में और घर वालों में हमें आज भी कोई कमी नजर नहीं आती  पर किसने सपनों के राजकुमार के लिए क्या सपने सजा रखे हैं  हमें क्या पता😲....हम थोड़े झोली फैलाए खड़े थे  भई उनके पापा ने कहा कि उनसे हमारे लिए कहिए आपके परिचित हैं हमने कर दी थोड़ी सिफारिश ...लड़के वालों से लड़की वालों की और लड़के वालों से लड़की की...और यदि नहीं पसंद -वसंद था तो कर देतीं मना ..तो भैया कान पकड़े कई बार हमारे पति का जोश जोर मारता है कि फलाने जी की लड़की को फलाने जी का लड़का बता दें हम उनके मुंह पर हाथ रख पीछे खींच लेते हैं ....चुप करो...तो भैया सही बात है...और करे तो डंडा बाजे🙇‍♀️

ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम) रश्मि प्रभा

ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम)    ताना-बाना उषा किरण  शिवना प्रकाशन  कितना कुछ हम मुट्ठी में भरकर...