ताना बाना

मन की उधेड़बुन से उभरे विचारों को जब शब्द मिले

तो कुछ सिलवटें खुल गईं और कविता में ढल गईं

और जब शब्दों से भी मन भटका

तो रेखाएं उभरीं और

रेखांकन में ढल गईं...

इन्हीं दोनों की जुगलबन्दी से बना है ये

ताना- बाना

यहां मैं और मेरा समय

साथ-साथ बहते हैं

साहित्य- समागम लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
साहित्य- समागम लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 17 फ़रवरी 2020

”अखिल भारतीय महिला साहित्य समागम”



6th और 7th फ़रवरी को इंदौर में आयोजित वामा तथा घमासान डॉट कॉम के सौजन्य से "अखिल भारतीय महिला साहित्य समागम” के आयोजन में अतिथि वक्ता के रूप मे भाग लेने के लिए इंदौर से आमन्त्रण मिलने पर पहले तो असमंजस में थी पर बाद में जाने का तय किया । सुरभि भावसार ने हम लोगों के एयर टिकिट व रहने की व्यवस्था करवाई।
             इंदौर मैं पहली बार गई ।वहाँ के लोगों के स्वभाव की मिठास और मेहमान नवाज़ी  ने सच में मन मोह लिया।एयरपोर्ट पर वरिष्ठ पत्रकार राजेश राठौर जी हमको रिसीव करने आए थे वो रास्ते भर हमें शहर व प्रोग्राम की जानकारी देते रहे शहर की साफ़-सफ़ाई के बारे में और भविष्य की योजनाओं के बारे में बताते रहे ।सारा शहर एकदम साफ़ सुथरा देख बहुत अच्छा लगा ।
हमारा रुकने का इंतजाम साउथ एवेन्यू होटल में किया गया था ।होटल के  द्वार पर ही ज्योति जैन जी बुके व मीठी मुस्कान सहित  स्वागत के लिए स्वयम् प्रस्तुत थीं।उनकी आत्मीयता ने सफर की थकान मिटा दी।
        थोड़ी देर बाद ही रूम में कार्यकारिणी की सदस्याएँ अमर चड्ढा, पद्मा राजेन्द्र ,वसुधा गाडगिल,अंतरा करवडे, सुरभि भावसार मिलने आईं और बहुत अपनत्व से पूछा कि हमें कोई परेशानी या कमी तो नहीं है !
उसके बाद घमासान डॉट कॉम से अर्जुन राठौर जी कैमरामैन को लेकर आए और एक छोटा सा इंटरव्यू लिया ।
             6th फ़रवरी को उद्घाटन-सत्र में बराबर में ही 'जाल सभाग्रह’ पहुँचे  जहाँ चाय नाश्ते का इंतजाम था उसके पश्चात कार्यक्रम प्राम्भ हुआ ।सभी अतिथि वक्ताओं का स्वागत पगड़ी पहना कर,श्रीफल ,स्मृति चिन्ह एवम् उपहार देकर किया गया ।
स्वागत सत्र में मृदुला सिन्हा व चन्द्रकान्ता जी को सुनने का अनुभव बहुत अच्छा रहा ।स्त्री-विमर्श पर जीवन मंथन से निकला हर वाक्य जीवन अनुभव का सार था जैसे ,जहाँ सिर्फ़ समस्याएँ ही नहीं उनके समाधान का भी रास्ता दिखाया।मृदुला सिन्हा जी ने कहा कि स्त्री या पुरुष की जगह अब परिवार विमर्श की जरूरत है ।
अन्य कविता व कहानी सत्रों में सत्रों में मालिनी गौतम,अलकनन्दा साने ,जयश्री रॉय ,सुषमा गुप्ता, इत्यादि को सुनने का अनुभव बहुत आनन्ददायक रहा।
7th फ़रवरी को भी टॉक शो में रुचिवर्धन मिश्र,रचना समंदर,निर्मला भुराड़या,वर्षा गुप्ता तथा अन्य सत्रों में सीमा जैन,शील कौशिक,जयंती रंगनाथन,नासिका शर्मा , जया जादवानी व रेणु जैन इत्यादि के परिपक्व विचारों को सुनने का अनुभव अविस्मरणीय रहा।
इसके अतिरिक्त विभिन्न शहरों से पधारी महिला साथियों ने भी अपनी कविताएं तथा लघु-कथाएँ सुनाईं।गिरिजा कुलश्रेष्ठ जी ने भी बहुत सुरीली आवाज में कविता का सस्वर पाठ किया और अर्चना चावजी व कविता वर्मा जी ने भी लघु-कथा सुनाई ।
सभी के विचारों को सुनना ,मिलना-जुलना,गपशप ,संग खाना- पीना ,और फ़ोटोग्राफ़र के कहने पर मिल कर कैटवॉक कर खिलखिलाते हुए फ़ोटो खिंचवाना स्मृति -पटल पर सदा के लिए अंकित हो गया।
फेसबुक पर ही परिचय हुआ था संजय नरहरि पटेल जी से वो अत्यन्त व्यस्त होने पर भी मिलने आए कुशलता पूछी ।
निधि जैन भी बहुत स्नेह से मिलीं उनका घर आने का निमन्त्रण वक्त न होने के कारण स्वीकार नहीं कर सकी जिसका अफसोस रहा ।
फ़ेसबुक के माध्यम से गाने के शौक़ीन हम जैसे दीवानों का अर्चना चावजी और वन्दना अवस्थी दुबे ने एक ग्रुप बनाया ‘गाएँ गुनगुनाएँ ग्रुप ‘जो महिला साहित्यकारों एवम् ब्लॉगर्स का ही ग्रुप है ।ढा़ई साल में सभी में बेहद आत्मीयता हो गई है।उनमें  से अर्चना चावजी ,गिरिजा जी और कविता वर्मा जी से पहली बार उक्त प्रोग्राम में मिल कर इतनी ख़ुशी और स्नेह मिला कि कह नहीं सकती ।
गिरिजा जी के साथ ग्वालियर से आईं उनकी दोस्त प्रतिभा द्विवेदी जी से भी खूब आत्मीयता हो गई ।
अर्चना जी की सहजता ,सौम्यता,गंभीरता व आत्मीयता ने मन मोह लिया ।एक तपस्विनी सा औरा है उनका।गाती भी बहुत मधुर हैं ।उनका धैर्य व सबको साथ लेकर चलने का भाव अनुकरणीय है ।बहुत कुछ सीखने को मिलता है उनसे।कर्तव्यपरायणता व दूसरों के काम आने में उनकी मिसाल दी जा सकती है बहुत निर्मल मन है उनका।
            गिरिजा कुलश्रेष्ठ जी का प्यार तो आँखों और बातों से हर पल छलक रहा था ।दो दिन साथ रहे पर बहुत कुछ सुनने-कहने से रह गया ।पुन: मिलने का वादा लेकर जुदा हुए।वे इतनी प्यार और भाव भरी लगीं कि इत्मिनान से साथ बैठ कर उनको खूब सुनने का मन कर रहा था।वे बहुत ही सुरीला गाती हैं ।भजन ,ग़ज़ल, शास्त्रीय संगीत सभी पर उनकी मज़बूत पकड़ है ।उनका स्नेहिल स्पर्श हथेलियों में आज भी महसूस होता है।
                कविता वर्मा जी से दोस्ती भी फ़ेसबुक पर ही हुई थी वे भी बहुत आत्मीयता से मिलीं ।बहुत मीठी बोली और मीठा स्वभाव है उनका । उनके पति का जन्मदिन था परन्तु रात तक  हमारे ही साथ रहीं ।मालिनी गौतम जी भी हम लोगों जैसी ही  मिल गईं ।हम सबको अपनी गाड़ी में बैठा कर कविता वर्मा जी शाम को खजराणा मंदिर ले गईं जहाँ गणपति के दर्शन कर षोडशियों की तरह खूब मस्ती धमाल किया हमने और ख़ूब वीडियो बनाईँ व सेल्फ़ी लीं ।
            फिर अगले दिन कविता जी ने साहित्य समागम के प्रोग्राम  के बाद अपने श्रीमान जी को भी बुला लिया तो हम चारों उनके साथ उनकी गाड़ी में लद कर सर्राफ़ा बाज़ार गए ।
सर्राफ़ा बाज़ार भी एक ही अजूबा है ।नौ बजे तक तो सर्राफ़ा बाज़ार चलता है और उसके बाद वहीं चाट बाज़ार लग जाता है जो रात दो बजे तक जाग्रत रहता है ।भीड़ इतनी जैसे कोई मेला लगा हो ।आलू पैटी,जोशी के दही बड़े,भुट्टे की कीस ,पानी पूरी,गराड़ू,साबूदानाखिचड़ी,जलेबी ,पोहा,मालपुआ,रबड़ी,क़ुल्फ़ी फ़ालूदा, शरीफे की रबड़ी सब चखने में ही बुरी तरह पेट भर गया ।और बहुत कुछ बाकी रह गया था।
जोशी के दही बड़े खाने में तो मज़े के थे ही उनको उछाल कर बनाने की कारीगरी और एक ही चुटकी से बारी-बारी मसाले डालने का हुनर भी कम मनोरंजक नहीं था ।उसकी दुकान के सामने सदा भीड़ लगी रहती है । वहीं अर्चना जी भी अपनी बेटी और मायरा  के साथ आ गईं ।हम सबने भाई साहब की एक दिन पहले गुज़र चुकी बर्थडे को फिर खूब खा पीकर मस्ती से मनाया । ।पान खाकर वापिस लौटे भीड़ इतनी थी कि चलना मुश्किल हो रहा था हम बार - बार कहे जा रहे थे कि बाप रे इंदौरी कितने चटोरे जबकि कसर हमने भी नहीं छोड़ी 













ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम) रश्मि प्रभा

ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम)    ताना-बाना उषा किरण  शिवना प्रकाशन  कितना कुछ हम मुट्ठी में भरकर...