ताना बाना

मन की उधेड़बुन से उभरे विचारों को जब शब्द मिले

तो कुछ सिलवटें खुल गईं और कविता में ढल गईं

और जब शब्दों से भी मन भटका

तो रेखाएं उभरीं और

रेखांकन में ढल गईं...

इन्हीं दोनों की जुगलबन्दी से बना है ये

ताना- बाना

यहां मैं और मेरा समय

साथ-साथ बहते हैं

मंगलवार, 17 मार्च 2020

पुस्तक- समीक्षा


दुखां दी कटोरी: सुखां दा छल्ला’
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
कभी-किसी की एक रचना ऐसी आती है कि मन करता है उसका लिखा अगला-पिछला सब कुछ एक साँस में पढ़ जाएं।
रूपा पहली बात तो ये कि आपको ख़ूब लिखना चाहिए हम और पढ़ना चाहते ऐसी सुंदर जादू रचने वाली ,सम्मोहित करने वाली कहानियाँ ।
रुपा सिंह  की हंस कथा मासिक में छपी कहानी 'दुखां दी कटोरी: सुखां दा छल्ला’ का चारों तरफ इतना शोर सुना तो रूपा से माँग कर पढ़ी और न सिर्फ़ पढ़ी लगातार दो बार एक ही बार में पढ़ गई कारण था पंजाबी मिश्रित मज़ेदार भाषा की वजह से मज़ा भी आया और कुछ पहली बार पढ़ने में समझने में परेशानी भी हुई और दूसरा सबसे बड़ा कारण था अंत में छल्ले के साथ आखिरी वक्त में उजागर होता बेबे का वो प्रेम जिसको नानाजी बेबे को सात तालों में बन्द करके भी नहीं बाँध पाए ।
कभी मंगेतर रही सुग्गी का बच्ची सहित छल से अपहरण करते एक बार भी पूछा नहीं उसका मन ...बस बाँध लिया साथ जैसे कोई ढोर हो ...पर दिल तो बेबे का छूट गया था न उस पार ।साथ आ गये  उस रिश्ते की ख़ुशबू तो बेबे की साँसों में महकती रही अगर -कपूर सी आख़िर तक ।बेबे गाती रही मगन हो...हंसती रहीं ...बोलती ...गाली देती ताउम्र...।
".....ओय छल्लिया होया वैरी...वतन माहिया हो गया वैरी...सोहणा...वे ढोलणा....।”
धड़कनों की ताल पर गीतों में हंसने -रोने में ढलता रहा दिल का दर्द...गूंजती रही अनकही पीर ।
अंत तक पढ़ते-पढ़तेही एक झटके में जैसे भावना का ,आँसुओं का गुबार फूट पड़ता है और बहा ले जाता है अपने साथ और आप हठात्  दुबारा पढ़ने को विवश हो जाते हैं ।
बाकी सबने पहले ही इतने विस्तार में इतनी सुंदर समीक्षा लिखी है कि मैं क्या लिखूँ ?
बस एक बात है कि मुझे  इसमें एक नहीं दो-दो अनकही पावन प्रेम कहानियाँ नज़र आईं...एक बेबे की और दूसरी जो बेबे की नातिन और तोषी के बीच चलती है ने भी छू लिया ...अंदर तक उदास कर दिया । दूसरी कहानी बेबे के आड़ में छिपती छिपाती सी चलती रहती है बेहद लापरवाह अल्हड़ किशोरी सी ...काँगड़ी में जलती धीमी -धीमी आँच सी सुलगती सी ।
अमृतसर छूटने के बाद उसे लहना सिंह के बहाने जिसकी याद आती रही ......"कभी चाँद देखती तो आकाशगंगा से अमृत के बहते परनाले दिखते जो बगल की छत पर जाकर ठहर जाते...लेकिन अब वहाँ कोई नहीं होता ।केवल यादें ही यादें थीँ ....कौन बता सकता है किसके रौशन तन में मन के अंधेरे कैसे गाढ़े होते हैं ? ...जो पूर्णिमा की रात खीर और चुन्नी थामे चाँदनी में साथ बहता रहा... जो बचपन में कहता मैं भी चौकीदारी करूँगा ...तेरी सुंदर भूतनी की ...जो छल्ले को सीधा करता नाम पढ़ता है 'शमशेर ‘....दोनों साथ पढ़ते हैं ...रोते हैं ..समझते हैं साथ ही छिपा भी जाते हैं बेबे के रिश्ते के साथ अपना भी और सभी की गरिमा पूरी तरह निभा ले जाते हैं ...।
बेबे का अंतिम आर्तनाद “....छल्ला वैरी क्यूँ होया....ओ छल्लिया...” के पीछे कुछ और चाहतें , कुछ और सिसकियाँ भी छिपी रह जाती हैं और छोड़ जाती है हमारे मनों पर एक तीखी सी चिलचिलाती पीली धूप...!!!!!ब




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

इससे पहले

इससे पहले कि फिर से तुम्हारा कोई अज़ीज़ तरसता हुआ दो बूँद नमी को प्यासा दम तोड़ दे संवेदनाओं की गर्मी को काँपते हाथों से टटोलता ठि...