ताना बाना

मन की उधेड़बुन से उभरे विचारों को जब शब्द मिले

तो कुछ सिलवटें खुल गईं और कविता में ढल गईं

और जब शब्दों से भी मन भटका

तो रेखाएं उभरीं और

रेखांकन में ढल गईं...

इन्हीं दोनों की जुगलबन्दी से बना है ये

ताना- बाना

यहां मैं और मेरा समय

साथ-साथ बहते हैं

गुरुवार, 9 जुलाई 2020

एकलव्य





एक प्रणाम तो बनता है उन तथाकथित गुरुओं के भी गुरुओं को जो👇


           एकलव्य
            वे भी थे
       एकलव्य ये भी हैं
      फर्क सिर्फ़ इतना है...
     वो अँगूठा काट देते थे
            ये अँगूठा
            काट लेते हैं ...!
                                —उषा किरण
                                    (ताना-बाना)



4 टिप्‍पणियां:

  1. थैली भरी एक थमा के अर्जुन की जगह भी ले लेते हैं :)

    जवाब देंहटाएं
  2. इतने सुंदर शब्दों को पिरोया है आपने
    इतने गहरे विचार बहुत खूब
    मैंने हाल ही में ब्लॉगर ज्वाइन किया है आपसे निवेदन करना चाहती हूं कि आप मेरे पोस्ट को पढ़े और मुझे सही दिशा निर्दश दे
    https://shrikrishna444.blogspot.com/?m=1

    जवाब देंहटाएं

ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम) रश्मि प्रभा

ताना - बाना - मेरी नज़र से - 11 (अंतिम)    ताना-बाना उषा किरण  शिवना प्रकाशन  कितना कुछ हम मुट्ठी में भरकर...